Backlink क्या है? 2021 me quality backlinks Kaise banaye?


backlink क्या है

बहुत से नए ब्लॉगर को बैकलिंक के बारे में ज्यादा नॉलेज नहीं होता है। अगर होता भी है तो बहुत काम होता है। इस पोस्ट में हम ये बताएंगे की backlink क्या है ?और 2021 में आप अपने वेबसाइट के लिए क्वालिटी backlink कैसे बनाये?

Backlink क्या है? बैकलिंक एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट के किसी भी पेज पर जाने का रास्ता होता है। Google,bing समेत दूसरे बहुत से सर्च इंजन बैक लिंक को दूसरे वेबसाइट से पाई गई एक vote की तरह विचार करते हैं। जिस वेबसाइट के जिस भी पेज पर ज्यादा बैक लिंक मौजूद होती है वह पेज गूगल के ऑर्गेनिक सर्च रिजल्ट में ज्यादातर टॉप पर rank करती है।

Backlinks एक वेबसाइट के एक पेज से दूसरे वेबसाइट के पेज पे लिंक होते हैं। यदि कोई आपकी वेबसाइट से लिंक करता है, तो आपके पास उनसे एक backlink है।

यदि आप किसी अन्य वेबसाइट से लिंक करते हैं, तो उनके पास आपसे एक backlink है।

एक बैकलिंक एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट का लिंक है। Google backlinks को सर्च engine में एक ranking signal के रूप में बैकलिंक का उपयोग करते हैं क्योंकि जब एक वेबसाइट दूसरे से लिंक करती है, तो इसका मतलब है कि उनका मानना ​​है कि पेज उल्लेखनीय है।

बड़े-बड़े वेबसाइट से क्वालिटी बैकलिंक्स वेबसाइट की रैंकिंग में मदद करता है। इसीलिए हमें हमारे वेबसाइट के लिए हाई क्वालिटी बैकलिंक्स बनाने चाहिए।

Backlinks क्यों महत्वपूर्ण हैं?

बैकलिंक्स असल में दूसरे वेबसाइट से आपके वेबसाइट के लिए वोट है। इस सभी vote सर्च इंजिन को यह बताते हैं की यह कंटेंट उपयोगी है। बैकलिंक्स गूगल जैसे सर्च इंजन के एल्गोरिदम का टॉप रैंकिंग सिग्नल है। इसे pagerank भी बोला जाता है।

Page Rank कुछ इस प्रकार से काम करता है।

गूगल ने आज से पहले अपने एल्गोरिदम में हजारों चेंजेज किए हैं और आज भी बैकलिंक्स एक मुख्य रैंकिंग सिग्नल है। इसीलिए इन बैकलिंक्स को बनाने से आपकी वेबसाइट पर रैंकिंग पोजिशन पर एक पॉजिटिव इफेक्ट मिलती है।

1. Rankings

गूगल जैसे सर्च इंजन आपकी वेबसाइट पर बैकलिंक्स को आपके लिए वोट की तरह विचार करते हैं। अगर कोई वेबसाइट आपको बैकलिंक देती है इसका मतलब यह है कि आपका कंटेंट उस सर्च क्वेरी के लिए सबसे अच्छा है।

ज्यादातर समय पर जो भी वेब पेज ज्यादा बैकलिंक्स पाती है ऑर्गेनिक सर्च में ऊपर रैंक करता है।

Ahrefs के एक स्टडी के दौरान यह पाया गया कि ज्यादा बैकलिंक्स मतलब ज्यादा ट्रैफिक।

3. Referral traffic

बैकलिंक्स का एक बड़ा लाभ यह है कि वे रेफरल ट्रैफ़िक प्राप्त करने में मदद करते हैं। मूल रूप से, एक व्यक्ति जो एक पोस्ट पढ़ रहा है वह हाथ में विषय के बारे में अधिक जानने के लिए पोस्ट के लिंक पर क्लिक कर सकता है।

4. Discoverability

तो अब आप समझते हैं कि “बैकलिंक” शब्द का अर्थ क्या है क्योंकि यह एसईओ से संबंधित है और वे महत्वपूर्ण क्यों हैं। आइए अब नए बैकलिंक्स प्राप्त करने के लिए कुछ सरल तकनीकों को जानें:

एक महत्वपूर्ण तथ्य जो आपको backlink SEO के बारे में ध्यान में रखना है, वह यह है कि यह backlinks की संख्या नहीं है जो मायने रखती है, बल्कि backlinks की गुणवत्ता भी है।

यदि आप अपनी साइट से लिंक प्राप्त करने के लिए कुछ भुगतान सेवाओं का उपयोग कर रहे हैं, तो आपको Google पेंगुइन के एल्गोरिथम द्वारा दंडित किए जाने की संभावना है।

Backlinks के प्रकार

बैकलिंक्स पांच प्रकार के होते हैं: Dofollow और Nofollow

एक रीडर जो भी एक वेब पेज को पढ़ रहा है वह कभी भी dofollow और nofollow लिंक्स के बीच में अंतर नहीं देख पाएगा । दोनों लिंक्स में अंतर सिर्फ सोर्स कोड क्या होता है। सिर्फ सोर्स कोड में ही स्पेसिफिक प्यार होता है जोकि गूगल और बाकी के सर्च इंजन को उस बैंक लिंक को कैसे देखना है यह बताता है।

Dofollow

Dofollow बैकलिंक्स बहुत कॉमन है और सबसे फायदेमंद है seo के लिए। जब कोई भी अपनी वेबसाइट में dofollow लिंक देता है इसका मतलब यह होता है कि दूसरी तरफ जो भी कंटेंट है वह महत्वपूर्ण है और उसको अकाउंट करना चाहिए ।

<a href=”domain.com/”>followed link</a>

Nofollow

Nofollow links कम है महत्वपूर्ण होता है। Nofollow लिंक गूगल को यह बताता है की दूसरी तरफ जो कंटेंट है उसको फॉलो नहीं करना है और लिंक जूस pass नहीं करना है।

<a href=”domain.com/” rel=”nofollow”>nofollowed link</a>

Sponsored या Paid Links

कभी-कभी एक ब्लॉगर दूसरे ब्लॉगर को अपने कंटेंट को प्रमोट करने के लिए पैसे देता है। अगर बैक लिंक पाने के लिए आप किसी दूसरे ब्लॉगर को पैसे देते हैं तो इससे स्पॉन्सर्ड लिंक कहा जाता है ।

पर ऐसा करना गूगल के पॉलिसी के खिलाफ है गूगल इस चीज को बिल्कुल भी प्रमोट नहीं करता। यह कभी-कभी आपके वेबसाइट के लिए नेगेटिव इंपैक्ट करता है।

स्पॉन्सर्ड लिंक कुछ इस प्रकार दिखता है

<a href=”https://www.example.com/” rel=”sponsored”>sponsored link</a>

UGC Links

Ugc links google ने 2019 को निकाला। 2019 से पहले जब भी कोई लोग किसी ब्लॉग पोस्ट या फोरम पर कमेंट करता था तो उसे नूफूलो लिंक माना जाता था। तो इसे अब यूजीसी लिंक्स कहा जाता है इसका मतलब होता है यूजर जेनरेटेड कॉन्टेंट।

यह इस प्रकार का देखता है

<a href=”https://www.example.com/” rel=”ugc”>UGC link</a>

High Authority Links

High अथॉरिटी लिंक्स सबसे अछि और बेहतर लिंक्स होती है। ज्यादातर लोह ये ही लिंक्स बनाते हैं। ये लिंक्स बड़े बड़े वेबसाइट news वेबसाइट, .gov, .edu वेबसाइट से आती है। एक्चुअली में एहि लिंक्स आपके वेबसाइट को ग्रो करने में मदद करते हैं।

Bad Links

बहुत से लिंक ऐसे हैं जो आपके वेबसाइट को नुकसान पहुंचाते हैं। इन लिंक को टॉक्सिक लिंक या फिर bad links कहा जाता है।

अगर कोई वेबसाइट गूगल के वर्क मास्टर गाइडलाइन्स का उल्लंघन करता है तो गूगल उसको पेनल्टी देता है। इसी प्रकार के और वेबसाइट से अगर आपके वेबसाइट पर बैकलिंक आता है तो गूगल आपके वेबसाइट पर भी कठोर होता है।

गूगल को यह लगता है कि आप उसके एल्गोरिदम को मैनिपुलेट कर रहे हैं। अगर आपके वेबसाइट पर अचानक से बहुत से बैकलिंक आ जाते हैं तब भी गूगल को यह अननेचुरल लगता है और गूगल आपके रैंकिंग में कटौती करता है।

Backlink कैसे काम करता है

Backlinks गूगल के सर्च इंजन एल्गोरिदम, seo, rankings मैं मदद करता है। Backlinks कैसे काम करती है यह समझने के लिए दो वेबसाइट को लेना पड़ेगा।

मान लीजिए एक ब्लॉगर है जिसने क्रिकेट के ऊपर एक आर्टिकल लिखा है।

दूसरा एक ब्लॉगर है जिसको वह आर्टिकल बेहद पसंद आता है। तो वह ब्लॉगर क्या करेगा अपनी वेबसाइट से पहले वाले ब्लॉगर को एक बैकलिंक दे देगा। इससे पहले वाले ब्लॉगर की वेबसाइट का अथॉरिटी बढ़ता है और उसका वो आर्टिकल गूगल सर्च में ऊपर रैंक करता है।

अच्छा backlink किसे कहते हैं

हमने आपको जैकलिन बैंक लिंक के प्रकार के बारे में बताया है। इंटरनेट पर बहुत से बैकलिंक है। पर उनमें से सभी बैक लिंक उतना फायदेमंद नहीं है। हमने नीचे कुछ ऐसे फैक्टर बताए हैं जो कि आपके वेबसाइट के लिए कितना यूज़फुल है यह बताएगा।

Relevancy

गूगल relavant लिंक को ज्यादा प्राधान्य देता है क्योंकि लोग उस पर ही ज्यादा क्लिक करते हैं। अगर एक डिजिटल मार्केटिंग वेबसाइट को दो लिंक मिलते हैं एक ब्लॉगिंग वाले वेबसाइट से और दूसरा डॉग वाले वेबसाइट से।

गूगल पहले वाले ब्लैक लिंग को ज्यादा वेल्यू देता है क्योंकि वह रिलेवेंट है।

Authority

एक कम अथॉरिटी वाले वेब पेज के मुकाबले एक हाई अथॉरिटी वाले पेज का बैक लिंक ज्यादा link juice pass करता है।

मान लीजिए एक वेब पेज बहुत सारे वेबसाइट को बैक लिंक दिया है अगर आप उससे बैकलिंक लेते हैं तो आपको कम अथॉरिटी मिलती है।

दूसरी तरफ अगर आप ऐसे वह पैसे मैक्लीन लेते हैं जो कि सिर्फ आप ही को बैकलिंक दिया है तो वह बैक लिंक ज्यादा अथॉरिटी ट्रांसफर करता है।

Traffic

अगर किसी वेब पेज पर ज्यादा ट्रैफिक आता है और आपने उसे बैंकलीन लिया है तो इसका मतलब आपको ज्यादा रिफरल ट्रैफिक मिलेगा।

Ahrefs के स्टडी के मुताबिक अगर आप सेम अथॉरिटी के दो वेब पेज से लिंक लेते हैं जिसमें ज्यादा ट्रैफिक आता है और दूसरे में कम ट्रैफिक आता है, पहले वाले वेब पेज आपको ज्यादा अथॉरिटी पास करता है जिसकी मदद से आप ऑर्गेनिक सर्च में ऊपर रैंक करते हैं ।

वेबपेज में जगह

अगर आप किसी वेब पेज के टॉप से बैकलिंक लेते हैं बजाएं किसी वेबपेज के फूटर एरिया से तो वह ज्यादा अथॉरिटी ट्रांसफर करता है।

क्वालिटी Backlinks कैसे बनाये

आपके अपने वेबसाइट पर बैकलिंक बनाने से पहले आपको यह जानना जरूरी है कि आप को किस प्रकार के बैकलिंक चाहिए।

बैक लिंक बहुत से प्रकार से होते हैं। अगर आपके पास एक वेबसाइट है डॉग के बारे मैं और आप दूसरे किसी वेबसाइट से बैकलिंक लेते हैं जोकि डिजिटल मार्केटिंग के बारे में है तो बोर्डिंग आपके लिए बेकार है। या फिर आप इसी एक वेबसाइट से लिंक लेते हैं जिसका डोमेन अथॉरिटी बहुत कम है या फिर जिसका spam score बहुत ज्यादा है, ऐसी लिंक्स आपके लिए फायदेमंद नहीं है। उल्टा यह आपके वेबसाइट को seo मैं नुकसान करेगा।

पहले के समय पर आप किसी भी प्रकार के बैकलिंक बना कर रैंक कर लेते थे। जैसे-जैसे गूगल बेहतर होता गया वह ऐसे spamy links को वैलिडेट करके आपकी वेबसाइट के रैंकिंग को कम कर देता है।

आज के टाइम पर गूगल बहुत ही एडवांस हो गया है। और जब गूगल को पता लगेगा कि आप उसके एल्गोरिदम में छेड़खानी करने की कोशिश कर रहे हैं वह आपकी वेबसाइट की ट्रैफिक को कम कर देगा।

या फिर आप की वेबसाइट को परमानेंटली ban भी कर सकता है।

इसीलिए आपको अपने वेबसाइट के लिए सिर्फ हाई क्वालिटी और relavant बैकलिंक्स बनाना चाहिए।

1.क्वालिटी कंटेंट लिखे

अगर आप दूसरे वेबसाइट से हाई क्वालिटी बैकलिंक्स पाना चाहते हैं तो आपको उन्हें एक रीजन देना पड़ेगा कि वह आपके कांटेक्ट को क्यों पसंद करें। अगर आपका कॉन्टेंट बहुत ही अच्छा और हेल्पफुल होगा तो लोग खुशी खुशी आपको लिंक दे देंगे।

  • लोगों की प्रॉब्लम सॉल्व करो। ज्यादातर लोग गूगल में इसीलिए आते हैं कि उनको अपनी प्रॉब्लम का सलूशन चाहिए। अगर आप ऐसा कॉन्टेंट बनाते हैं जो उन्हें उनके समस्या का हल देता है तो आप ऑर्गेनिकली बैक लिंक पाएंगे।
  • अपने कॉन्टेंट को यूजर फ्रेंडली बनाइए। अपने ब्लॉग पोस्ट में छोटे-छोटे सेंटेंसेस लिखिए जो कि पढ़ने में और समझने में आसानी होती है।
  • अपने आर्टिकल्स में अथॉरिटी बनाइए। इंटरनेट पर लोग उन लोगों से सीखना चाहते हैं जो उस टॉपिक में अच्छे हो इसीलिए अपने टॉपिक पर अपनी अथॉरिटी बनाइए।

क्वालिटी कॉन्टेंट बनाने के बाद आपको अपने टॉपिक पर जो भी लोग ब्लॉग बना रहे हैं उनको ईमेल करना है। वह लोग पहले से ही उस पर कांटेक्ट बना चुके हैं इसलिए इसका हाई चांस है कि वह आपके आर्टिकल को एक बार जरूर देखेंगे। और अगर आपका पोस्ट बहुत अच्छा होगा तो वह जरूर आपको लिंक दे देंगे।

2.Guest post

गेस्ट पोस्टिंग एक ऐसा शर्ट चाहिए जिससे आप अपने नहीं बल्कि दूसरे वेबसाइट के लिए कॉन्टेंट लिखते हैं। आपके niche मैं जो भी बड़े-बड़े वेबसाइट होंगे आप उनसे कांटेक्ट करके उनके लिए पोस्ट लिख सकते हैं।

उस फ्री पोस्ट के लिए वह blog ओनर उसी आर्टिकल में आपके वेबसाइट को लिंक बैक करता है।गेस्ट ब्लॉगिंग में एक बहुत बड़ा चैलेंज जाता है कि उन साइट को ढूंढने में जोकि गेस्ट पोस्टिंग accept करते हो।

अपने चांस को बढ़ाने के लिए आप उन वेबसाइट को खोजिए जो के पहले से ही गेस्ट पोस्टिंग स्वीकार करते हो।

3.Broken लिंक बिल्डिंग

वेब लगातार विकसित हो रहा है। पृष्ठ हर समय बदलते, चलते या नष्ट होते रहते हैं। टूटे हुए लिंक उन पृष्ठों के लिंक हैं जो अब मौजूद नहीं हैं।

किसी को पसंद नहीं है। वेबमास्टर्स और खोजकर्ता टूटे हुए लिंक से नफरत करते हैं क्योंकि वे खराब उपयोगकर्ता अनुभव में योगदान करते हैं।

लेकिन, वे अभी भी मौजूद हैं क्योंकि वेबमास्टर्स व्यस्त हैं। आपकी साइट को लगातार टूटे हुए लिंक से मुक्त करने के लिए बहुत प्रयास करना पड़ता है।

यह रणनीति उसी का फायदा उठाती है। अवधारणा सरल है:

आप एक broken link पाते हैं
आप dead link को फिर से बनाएँ
आप उस dead लिंक करने वाले लोगों तक पहुंचते हैं और उन्हें आपके पुनः बनाए गए संस्करण से लिंक करने के लिए कहते हैं।
इस रणनीति का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा फिर से बनाने और पिच करने के लिए सही “टूटी” सामग्री मिल रही है। ऐसा करने के लिए, आपको एक उपकरण की आवश्यकता होगी जो आपको बैकलिंक्स का विश्लेषण करने की अनुमति दे।

एक आधिकारिक, प्रतिस्पर्धी साइट के डोमेन को Ahrefs की साइट एक्सप्लोरर में दर्ज करें। फिर, लिंक रिपोर्ट द्वारा सर्वश्रेष्ठ पर जाएं, और “HTTP 404 नहीं मिला” द्वारा फ़िल्टर करें।


जैसा कि आप देख सकते हैं, इस स्क्रीनशॉट का दूसरा पेज मर चुका है, लेकिन पहले इसमें 113 डॉल्फ़ोइड बैकलिंक जुड़े हुए थे। यह एक महान अवसर है!

वेबैक मशीन मुझे बताती है कि यह रूपकों, उपमाओं और उपमाओं के बीच अंतर के बारे में एक पोस्ट हुआ करती थी।

अब आपको बस इतना करना है कि इस सामग्री को फिर से बनाना है और सभी 113 लोगों को इसके बजाय आपसे लिंक करना है।

4.HARO

HARO का फुलफॉर्म है Help a Reporter Out . HARO एक ऐसा प्लेटफार्म है जहाँ पर news रिपोर्ट्स को आर्टिकल्स लिकने वाले लोग चाहिए। आपको तो पता ही होंगे की सबसे ज्यादा पोस्ट news website ही बनाते हैं।

तोह HARO पर आप अपना अकाउंट क्रिएट करके उन news reporter के लिए पोस्ट लिख सकते हैं और बदले में वो आपको backlink देते है। ये तरीका बहुत ही ाचा है कियन की यहाँ पे जो backlinks मिलती है वो बहुत ही हाई क्वालिटी के होती है।

5.रिवर्स इंजीनियरिंग करके

हर उद्योग के पास लिंक निर्माण के अवसरों का अपना सेट है।

इसलिए मैं आपकी प्रतिस्पर्धा को उल्टा करने के लिए कुछ समय अलग रखने की सलाह देता हूं। इस तरह, आप लिंक के अवसर पा सकते हैं जो केवल आपके आला में मौजूद हैं।

मान लीजिए कि आप एक स्वास्थ्य और फिटनेस ब्लॉग चलाते हैं।

और आपका कॉम्पिटिटर fitness ब्लॉग चलता है ।

ठीक है, जब मैं उस साइट के लिंक प्रोफाइल को एक बैकलिंक चेकर में जांचता हूं, तो मैं ध्यान देता हूं कि उनके लिंक बहुत से podcast से आया है

6.आंकोड़ो से लिंक मिलते हैं

7.Fresh ब्लॉग पोस्ट ढूंढिए

मन लेते है किसी ब्लॉगर ने आपके टॉपिक पर एक नया पोस्ट पब्लिश किया है। पोस्ट नया है इस लिए वो बार बार उसका रैंकिंग पोजीशन, ईमेल चेक करता है। आपको उन ब्लॉग पोस्ट को ढढूंढ़ना है। और उनको लिंक के लिए पूछना है।

ऐसे नए पोस्ट ढूंढिए जो की 1 दिन २ दिन के अंदर पब्लिश हुआ है। इसके लिए आपका टाइटल गूगल में सर्च करिये

8.comment

आप दूसरे ब्लॉग पोस्ट ,फोरम इत्यादि में कमेंट करके भी बैकलिंक बना सकते हैं। कुछ ब्लोग्स पर ये Dofollw होता है और कुछ ब्लोग्स पर ये nofollow होता है।

इसके अलाबा भी आप इन तरीको से होग़ क्वालिटी बैकलिंक्स बना सकते हैं

  • अपनी सोशल मीडिया प्रोफाइल पर अपनी साइट के लिंक जोड़ें।
  • पहले से ही अच्छी तरह से रैंकिंग करने वाली पोस्ट के लिए Google search करें और फिर उसे सुधारें और विस्तारित करें।
  • information पोस्ट, “how-to” पोस्ट, “why” पोस्ट, इन्फोग्राफिक्स, या एम्बेडेड वीडियो के साथ पोस्ट बनाएं। इन प्रारूपों में आमतौर पर मानक पदों की तुलना में अधिक बैकलिंक्स मिलते हैं।
  • बहुत बड़े 3000-4000 पोस्ट लिखें। ये बहुत लंबी पोस्ट हैं जिसमें कई हजार शब्द हैं और विषय के हर कोण को कवर करते हैं।
  • अन्य ब्लॉग और वेबसाइट पर guest post लिखें
  • अपने आला या उद्योग में प्रभावितों से संपर्क करें और उन्हें अपनी साइट पर एक लेख के बारे में बताएं जिसे वे लिंक करना चाहते हैं।
  • आपके उद्योग में साक्षात्कारकर्ताओं को प्रभावित करता है और उन्हें एक लिंक भेजता है, इसमें कोई संदेह नहीं है कि वे आपकी साइट पर वापस लिंक करेंगे।

अपने वेबसाइट के लिए Backlinks कैसे चेक करे

विभिन्न backlink tool हैं जो आपको Google search console, SEMRush, Ahrefs आदि सहित अपनी वेबसाइट के बैकलिंक्स की जांच करने देते हैं।

अपने बैकलिंक्स पर नज़र रखना बहुत महत्वपूर्ण है। Google वेबमास्टर दिशानिर्देशों की आवश्यकता है कि आप spammy वेबसाइट मालिकों से अपनी साइट से उनके लिंक हटाने के लिए कहें। यदि आप नहीं करते हैं, तो Google आपकी वेबसाइट को पेनल्टी कर सकता है, और आपकी पेज रैंक गिरना शुरू हो जाएगी।

इसलिए, यह जानना महत्वपूर्ण है कि इन 3 प्रश्नों का उत्तर कैसे दिया जाए:

मुझे अपने सभी बैकलिंक्स कहां मिल सकते हैं?
मुझे कैसे पता चलेगा कि वे विषाक्त हैं?
मैं जहरीले बैकलिंक साइट मालिकों से कैसे संपर्क कर सकता हूं?
शुक्र है, सही उपकरण के साथ उत्तर आसान है।

आप अपनी साइट को बनाने और अपने बैकलिंक को देखने में मदद करने के लिए Google search console का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन इसमें बहुत समय लग सकता है और यह सीमित है कि यह क्या कर सकता है।

हालाँकि, तेज और बेहतर उपकरण उपलब्ध हैं। उदाहरण के लिए, SEMrush का उपयोग करके, आप उन तीन महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर जल्दी से दे सकते हैं और बहुत कुछ।

SEMrush में दो मुख्य क्षेत्र हैं जो विशेष रूप से बैकलिंक्स से निपटते हैं। पहला है बैकलिंक एनालिटिक्स सेक्शन जो आपको अपने प्रतिस्पर्धियों का अध्ययन करने देता है, और दूसरा है बैकलिंक ऑडिट क्षेत्र।

चलो बैकलिंक ऑडिट अनुभाग पर एक त्वरित नज़र डालें क्योंकि इससे आपको अपनी साइट पर सभी बैकलिंक्स मिल सकते हैं।

बैकलिंक ऑडिट

इसके बाद, SEMrush का बैकलिंक ऑडिट टूल हर बैकलिंक की जाँच करता है और जो विषाक्त हैं उन्हें बाहर निकालता है। इस तरह से आप अपनी वेबसाइट को Google द्वारा दंडित करने से पहले विषाक्त बैकलिंक पा सकते हैं और हटा सकते हैं।

बैकलिंक मार्कर

और SEMrush के बारे में सबसे अच्छी चीजों में से एक यह है कि आप उपयोगकर्ता स्क्रीन से सही विषैले वेबसाइट के मालिक को ईमेल कर सकते हैं।

SEMrush जैसे टूल से, आप कीवर्ड रिसर्च कर सकते हैं, अपने प्रतिद्वंद्वियों को बैकलिंक देख सकते हैं, और एक सुविधाजनक जगह पर अपना प्रबंधन कर सकते हैं।

अपने बैकलिंक प्रोफाइल का ध्यान रखना आपको अपनी साइट के मूल्य के बारे में बहुत कुछ बताएगा और आपकी साइट क्व seo का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

Conclusion

बैकलिंक्स एक रैंकिंग सिग्नल होने के बावजूद, गूगल ने कभी भी यह नहीं कहा है कि आपको अपनी वेबसाइट के लिए बैक लिंक बनाना चाहिए। अगर गूगल को कभी भी यह लगेगा कि आप उसके एल्गोरिदम को छेड़खानी कर रहे हैं तब आपको इसका भारी कीमत चुकाना पड़ सकता है।

गूगल ने कभी भी लिंक बिल्डिंग को प्रमोट नहीं किया है। गूगल में ऊपर रैंक करने के लिए आपको सिर्फ और सिर्फ हाई क्वालिटी कॉन्टेंट की जरूरत है।

गूगल दिन-ब-दिन बेहतर होता जा रहा है और अगर आपने गूगल को किसी भी प्रकार से बेवकूफ बनाने की कोशिश करते हैं तो गूगल आपको शीघ्र ही पकड़ लेगा। आपकी वेबसाइट नीचे चली जाएगी। इसीलिए आपको अपने वेबसाइट पर ऑर्गेनिक बैक लिंक लाना जरूरी है।

उम्मीद है आपको हमारा ये पोस्ट backlink क्या है पसंद आया होगा।

Recent Content